Visheshan Kya Hain – विशेषण क्या हैं और विशेषण के कितने भेद होते हैं।

Visheshan Kya Hain: विशेषण हिंदी व्याकरण का एक महत्वपूर्ण अंग है, विशेषण को आम जिंदगी में भी काफी इस्तेमाल किया जाता है. तो आइए जानते हैं, विशेषण क्या होता है? और विशेषण के कितने भेद होते हैं?

सामान्य रूप से विशेषण को चार भागों में बांटा गया है, जिससे हम विशेषण के भेद कहते हैं. विशेषण के चारो भेद इस प्रकार हैं:- गुणवाचक विशेषण, परिमाणवाचक विशेषण, संख्यावाचक विशेषण और सर्वनामिक विशेषण.

विशेषण के कितने भेद होते हैं? – Visheshan Kya Hain

विशेषण क्या होता है? – Visheshan Kya Hain

Visheshan – विशेषण वह शब्द होता है, जो किसी संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताता है.

जैसे-

अच्छा लड़का, गंदा लड़का, प्यारा तिरंगा, महान देश आदि

Visheshan Kya Hain - विशेषण क्या हैं और विशेषण के कितने भेद होते हैं।
विशेषण के कितने भेद होते हैं

ऊपर दिए गए उदाहरणों में से हम यह आसानी से समझ सकते हैं, कि अच्छा, गंदा, प्यारा, महान शब्द विशेषण का काम कर रहे हैं. ऐसा इसलिए है, क्योंकि ये सभी शब्द लड़का, तिरंगा, देश कि किसी खास विशेषता को बता रहे हैं.

विशेषण के कितने भेद होते हैं? | Visheshan Ke Kitne Bhed Hote Hain

विशेषण को हिंदी व्याकरण में चार भागों में बांटा गया है, जो कि इस प्रकार हैं.

  1. गुणवाचक विशेषण✔️
  2. परिमाणवाचक विशेषण✔️
  3. संख्यावाचक विशेषण✔️
  4. सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण✔️

तो आइए जानते हैं, विशेषण के चारो भेदों को उदाहरण के साथ विस्तार से जानते हैं.

1.गुणवाचक विशेषण

जो शब्द किसी संज्ञा या सर्वनाम के गुण, दोष, दशा, भाव, रंग, आकार, समय, स्थान आदि की विशेषता बताते हैं, उन्हें गुणवाचक विशेषण कहते हैं.

नोट➦

1.रोहन अच्छा है.✔️

इस वाक्य में ‘अच्छा’ शब्द रोहन की एक विशेषता को बता रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘अच्छा’ शब्द विशेषण है.

2.सूरज गोल है.✔️

इस वाक्य में ‘गोल’ शब्द सूरज की एक विशेषता को बता रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘गोल’ शब्द विशेषण है.

3.भारत देश आजाद है.✔️

इस वाक्य में ‘आजाद’ शब्द भारत देश की एक विशेषता को बता रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘आजाद’ शब्द विशेषण है.

4.वर्फ ठंडा है.✔️

इस वाक्य में ‘ठंडा’ शब्द वर्फ की एक विशेषता को बता रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘ठंडा’ शब्द विशेषण है.

5.तालाब गहरा है.✔️

इस वाक्य में ‘गहरा’ शब्द तालाब की एक विशेषता को बता रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘गहरा’ शब्द विशेषण है.

इन पांच उदाहरणों से आपको गुणवाचक विशेषण अच्छे से समझ आ गया होगा, ऐसे ही अब हम परिमाणवाचक विशेषण को समझेंगे.

2.परिमाणवाचक विशेषण

जो शब्द किसी संज्ञा या सर्वनाम की मात्रा, नापतोल आदि का बोध कराते हैं, उन्हें परिमाणवाचक विशेषण कहते हैं.

नोट➦

1.रोहन के पास सौ रुपए है.✔️

इस वाक्य में ‘सौ’ शब्द रुपए की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘सौ’ परिमाणवाचक विशेषण है.

2.मेरे पास दस कलम है.✔️

इस वाक्य में ‘दस’ शब्द पेन की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘दस’ परिमाणवाचक विशेषण है.

3.मोहित सात किलो सेव लाया.✔️

इस वाक्य में ‘सात किलो’ शब्द सेव की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘सात किलो’ परिमाणवाचक विशेषण है.

4.मेरे पास कुछ गमछे है.✔️

इस वाक्य में ‘कुछ’ शब्द रंग की एक अनिश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘कुछ’ परिमाणवाचक विशेषण है.

5.ऑफिस में पैंतालीस लोग काम करते है.✔️

इस वाक्य में ‘पैंतालीस’ शब्द लोग की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘पैंतालीस’ परिमाणवाचक विशेषण है.

इन पांच उदाहरणों से आपको परिमाणवाचक विशेषण अच्छे से समझ आ गया होगा, तो अब हम परिमाणवाचक विशेषण के प्रकारों को समझेंगे.

परिमाणवाचक विशेषण के प्रकार

  1. निश्चित परिमाणवाचक विशेषण✔️
  2. अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण✔️

1.निश्चित परिमाणवाचक विशेषण

निश्चित परिमाणवाचक विशेषण वो विशेषण होते है, जिनकी एक निश्चित मात्रा या नाप-तोल ज्ञात होती है.

नोट➦

1.मेरे पास पन्द्रह रुपए है.✔️

इस वाक्य में ‘पन्द्रह’ शब्द रंग की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘पन्द्रह’ निश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

2.पैर पर पांच बंदर हैं.✔️

इस वाक्य में ‘पांच’ शब्द बंदर की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘पांच’ निश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

3.सोलह रुपए की गाड़ी.✔️

इस वाक्य में ‘सोलह’ शब्द रंग की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘सोलह’ निश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

2.अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण

अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण वो विशेषण होते है, जिनकी एक निश्चित मात्रा या नाप-तोल ज्ञात नही होती है.

नोट➦

  1. मेरे पास कुछ रुपए है.✔️

इस वाक्य में ‘कुछ’ शब्द की रंग अनिश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘कुछ’ अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

2.बस मैं थोड़ा बड़ा हो जाऊं.✔️

इस वाक्य में ‘थोड़ा’ शब्द रंग की अनिश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘थोड़ा’ अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

3.मुझे थोड़ी देर लगेगी.✔️

इस वाक्य में ‘थोड़ी’ शब्द रंग की अनिश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘थोड़ी’ अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण है.

3.संख्यावाचक विशेषण

जो शब्द किसी संज्ञा या सर्वनाम की संख्या का बोध कराते हैं, उन्हें संख्यावाचक विशेषण कहते हैं.

नोट➦

1. मैं कक्षा आठवीं में पढ़ता हूं.✔️

इस वाक्य में ‘आठवीं’ शब्द एक संख्या का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘आठवीं’ संख्यावाचक विशेषण है.

परिमाणवाचक विशेषण के प्रकार

  • निश्चित संख्यावाचक विशेषण✔️
  • अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण✔️

1.निश्चित संख्यावाचक विशेषण

निश्चित संख्यावाचक विशेषण वो विशेषण होते है, जिनकी एक निश्चित संख्या का बोध होता है.

नोट➦

1.बारह रोटी✔️

इस वाक्य में ‘बारह’ शब्द केले की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘बारह’ निश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

2.पच्चास आदमी✔️

इस वाक्य में ‘पच्चास’ शब्द आदमी की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘पच्चास’ निश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

3.एक हजार✔️

इस वाक्य में ‘दस’ शब्द लाख की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘दस’ निश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

4.अठारह किलो✔️

इस वाक्य में ‘अठारह’ शब्द किलो की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘अठारह’ निश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

5.बारह जहाज✔️

इस वाक्य में ‘बारह’ शब्द जहाज की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘बारह’ निश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

2.अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण

अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण वो विशेषण होते है, जिनकी एक निश्चित संख्या का बोध होता है.

नोट➦

1.बहुत पपीते✔️

इस वाक्य में ‘बहुत’ शब्द पपीते की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘बहुत’ अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

2.बहुत लड़की✔️

इस वाक्य में ‘बहुत’ शब्द लड़की की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘बहुत’ अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

3.कई हजार✔️

इस वाक्य में ‘कई’ शब्द हजार की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘कई’ अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

4.कई समान✔️

इस वाक्य में ‘कई’ शब्द समान की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘कई’ अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

5.कई ग्लाश✔️

इस वाक्य में ‘कई’ शब्द ग्लाश की एक निश्चित मात्रा का बोध करा रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘कई’ अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण है.

4.सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण

जो सर्वनाम शब्द किसी संज्ञा के पहले जुड़कर उसकी ओर संकेत करते हैं, उसे सार्वनामिक या संकेतवाचक विशेषण कहते हैं।

नोट➦

1.यह बकरा दौड़ता है.✔️

इस वाक्य में ‘यह’ शब्द बकरा (संज्ञा शब्द) की ओर संकेत कर रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘यह’ सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण है.

2. ये मोबाइल मेरी है.✔️

इस वाक्य में ‘ये’ शब्द मोबाइल(संज्ञा शब्द) की ओर संकेत कर रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘ये’ सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण है.

3.मेरी मोटर साइकिल कहा है.✔️

इस वाक्य में ‘मेरी’ शब्द मोटर साइकिल(संज्ञा शब्द) की ओर संकेत कर रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘मेरी’ सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण है.

4. मेरा भाई गांव गया है.✔️

इस वाक्य में ‘मेरा’ गांव भाई(संज्ञा शब्द) की ओर संकेत कर रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘मेरा’ सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण है.

5.वो झोपड़ी मेरा है.✔️

इस वाक्य में ‘वो’ शब्द झोपड़ी(संज्ञा शब्द) की ओर संकेत कर रहा है, इसलिए इस वाक्य में ‘वो’ सर्वनामिक/संकेतवाचक विशेषण है.

मित्रों मुझे आशा है कि आप को विशेषण के कितने भेद होते हैं? -Visheshan Ke Kitne Bhed Hote Hain जानकारी बहोत पसंद आई होगी. अगर आप के मन में कोई सवाल या सुझाव हमें देना चाहते हैं, तो कॉमेंट्स कर के हमे जरूर बताएं.

आप यह हिंदी व्याकरण के भाग को भी पढ़े:–

भाषा किसे कहते हैं और भाषा के प्रकार
व्याकरण किसे कहते हैं और व्याकरण के प्रकार

Share With Your Friends

Leave a Reply

Your email address will not be published.